सूर्यपुत्र शनिदेव की मूर्ति घर में क्यों नहीं रखी जाती है? जानिए मंदिर में ही क्यों की जाती है पूजा!

सूर्यपुत्र शनिदेव की मूर्ति घर में क्यों नहीं रखी जाती है? जानिए मंदिर में ही क्यों की जाती है पूजा!

हिंदू धर्म में करोड़ों देवी-देवताओं की पूजा की जाती है। हमारे घरों में भगवान शिव, गणेश, हनुमान, कृष्ण और मां दुर्गा की तस्वीर या मूर्ति है। लेकिन किसी के घर में शनिदेव की कोई तस्वीर या मूर्ति नहीं रखी गई। शास्त्रों के अनुसार शनिदेव सूर्य के पुत्र हैं। इसके बावजूद घर में इनकी पूजा करना वर्जित है। इसके पीछे धार्मिक मान्यता है कि शनिदेव को श्राप दिया गया था। इसे देखने वालों के लिए स्थिति और खराब हो जाएगी। यही कारण है कि शनिदेव की आंखों का हमारे जीवन पर सीधा प्रभाव नहीं पड़ना चाहिए। इसलिए घर में उनकी मूर्ति या तस्वीर नहीं रखी जाती है।

शनिदेव की जन्म कथा
हिंदू शास्त्रों के अनुसार शनिदेवजी का जन्म संजना छाया (छाया) के गर्भ से हुआ था, जो सूर्य की पत्नी थीं। जब शनि छाया के गर्भ में थे तब वे भगवान भोलेनाथ की भक्ति में बहुत मग्न थे। उसे उसके खाने-पीने का भी पता नहीं था। जिसका असर उनके बेटे पर पड़ा और वह काला हो गया।

शनि का रंग देखकर सूर्य ने शनि को अपना पुत्र मानने से इंकार कर दिया। तब से, शनि अपने पिता सूर्य से शत्रुतापूर्ण रहा है। शनिदेव ने अपनी आध्यात्मिक तपस्या से शिव को प्रसन्न किया। शिवाजी ने शनिदेव से आशीर्वाद मांगा तो उन्हें सूर्य के समान शक्ति प्राप्त हुई। भगवान शंकर ने उन्हें नवग्रहों में सर्वश्रेष्ठ स्थान दिया। साथ ही मनुष्यों और देवताओं ने भी इनसे डरने का वरदान दिया।

ज्योतिष शास्त्र में शनिदेव
शनि के ज्योतिष में कई नाम हैं जैसे मंडागामी, सूर्यपुत्र, शनि शचर और छायापुत्र आदि। शनि के नक्षत्र पुष्य, अनुराधा और उत्तरभद्रदादा हैं। वह मकर और कुंभ राशि के स्वामी हैं। नीलम शनि का रत्न है। शनि को सूर्य, चंद्र, मंगल का शत्रु, बुध और शुक्र का मित्र और बृहस्पति का शत्रु माना जाता है। ग्रहों की कक्षा में शनिदेव सूर्य से अस्सी लाख मील दूर हैं।

शनिदेव के चरणों में दर्शन के लिए
ऐसा माना जाता है कि शनिदेव के दर्शन के लिए जाते समय उनके चरणों की ओर देखना चाहिए। उनकी आँखों में मत देखो। अगर आप घर में शनिदेव की पूजा करना चाहते हैं तो इस बात का ध्यान रखें। शनिदेव के साथ हनुमान जी की भी पूजा करनी चाहिए। ऐसा करने से वह खुश रहती है। शनिदेव को छोड़कर घर में नटराज, भैरव, राहु और केतु की तस्वीर या मूर्ति नहीं रखनी चाहिए

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *