भगवान् गणेश ज्ञान और शक्ति के देवता है, मानव शरीर में सात चक्रों में से पहला चक्र मूलाधार के देवता है..

भगवान् गणेश ज्ञान और शक्ति के देवता है, मानव शरीर में सात चक्रों में से पहला चक्र मूलाधार के देवता है..

कहा जाता है कि जहां ज्ञान और विवेक होता है वहां बुराई नहीं होती। गणेश बुद्धि और ज्ञान के देवता हैं। यानी मंगल के कार्य से पहले गणपति को आमंत्रित किया जाता है। गणेश जी के आगमन से ही विघ्नों का नाश होता है। आदि शंकराचार्य का स्पष्ट मत था कि ज्ञान के बिना मुक्ति संभव नहीं है। भजन “भज गोविंदं भज गोविंदम” यह भी कहता है कि “ज्ञानविहिं: सर्वमतें, मुक्ति न भजति जन्माष्टें” का अर्थ है कि एक अज्ञानी व्यक्ति सौ बार जन्म लेने पर भी मुक्ति प्राप्त नहीं कर सकता। हिंदू पूजा पद्धति में गणेश का महत्व और भी अधिक है क्योंकि उनका आह्वान जीवन में ज्ञान का प्रकाश फैलाना है।

जीवन का आधार ज्ञान है। गणपति के बिना ज्ञान संभव नहीं है। क्योंकि, एक व्यक्ति के शरीर में सात चक्र होते हैं, मूलाधार, स्वाधिष्ठान, मणिपुर, अनाहत, विशुद्धि, आज्ञा और सहस्रार। इन सात चक्रों में से पहला चक्र आधार है, जो किसी व्यक्ति के शरीर में जननांगों के ऊपर रीढ़ के अंतिम भाग में होता है। इसे कुंडलिनी कहते हैं। गणपति के बिना कुण्डलिनी जागरण संभव नहीं है। मूलाधार शब्द से स्पष्ट है कि यह मूल आधार है।

खास बात यह है कि इस चक्र की आकृति भी गणपति के समान है। यह ज्ञान और शक्ति का केंद्र है। शरीर में शक्ति और श्रेष्ठता का जाग्रत होना है तो उसे जगाना आवश्यक है। इसी कुदालिनी में शक्ति है, यहीं से जागकर अन्य पांच चक्रों को पार कर सहस्रार पहुंचती है। जब कुडली की शक्ति मूलाधार से होकर सहस्रार तक पहुँचती है, तो समझना चाहिए कि जीवित अवस्था में परमात्मा प्रकट हुआ है। योग भी इसे मानता है

गणेश उत्सव में क्या करें: तो गणेश उत्सव क्या है? ये दस दिन अपने भीतर ईश्वर को देखने का प्रयास शुरू करने का दिन हैं। गणेश जी की आराधना से कष्ट दूर होते हैं। उन्हें विघ्नहर्ता भी कहा जाता है। विघ्न और संकट कैसे दूर होते हैं। बुद्धि और शक्ति के साथ। बुद्धि और बल किसके द्वारा है, यह स्पष्ट है कि बाहरी दुनिया में गणेश और शरीर के अंदर मूलाधार चक्र। यानी हर जगह गणेश ही हैं।

गणेश चतुर्थी का त्यौहार केवल घर या मंडप में भगवान गणेश की मूर्तियाँ स्थापित करके उत्सव मनाने का त्योहार नहीं है। लेकिन यह भी अपने शरीर के भीतर मूल शक्ति और ज्ञान के चक्र को जगाने के लिए है। तभी गणपति व्यक्ति के जीवन में आएंगे। हम ज्ञान और शक्ति प्राप्त करने के लिए सामूहिक प्रयास करेंगे। भारत वर्ष में देखा जाए तो महाराष्ट्र लक्ष्मीजी की भूमि गणेश का स्थान है।

आर्थिक राजधानी मुंबई अर्थव्यवस्था की रीढ़ है। गणेश किसी राज्य या शहर की बात नहीं है। अगर आप भगवान को पाना चाहते हैं, अगर आप देखना चाहते हैं तो गणेश पहला कदम है। अगर आप गणेशजी को मना लेंगे तो बाकी सब मान जाएंगे।

इस गणेश उत्सव से शुरू करें तीन काम: गणपति को मनाना कोई मुश्किल काम नहीं है। भोलानाथ का पुत्र स्वभाव से उनके जैसा ही है। शीघ्र प्रसन्न होना इनका गुण है। विधि सही हो तो गणपति की कृपा प्राप्त करने का निश्चय किया जाता है। अपनी आदत में तीन चीजें शामिल करें।

प्रतिदिन कुछ देर ध्यान करें: गणपति के सामने कम से कम 5 मिनट तक मन को नियंत्रित करके बैठें। धीरे-धीरे समय बढ़ाएं। ध्यान के समय पूरे मन को मूलाधार चक्र पर केंद्रित करें। यदि मौन रहकर ध्यान कठिन है तो श्रीगणेशाय नमः मंत्र का सहारा लें। मन में मंत्र का जाप करके ध्यान करें।

गणेश चतुर्थी का त्यौहार केवल घर या मंडप में भगवान गणेश की मूर्तियाँ स्थापित करके उत्सव मनाने का त्योहार नहीं है। लेकिन यह अपने शरीर के भीतर मूल शक्ति और ज्ञान के चक्र को जगाने के लिए भी है
गणेश चतुर्थी का त्यौहार केवल घर या मंडप में भगवान गणेश की मूर्तियाँ स्थापित करके उत्सव मनाने का त्योहार नहीं है। लेकिन यह अपने शरीर के भीतर मूल शक्ति और ज्ञान के चक्र को जगाने के लिए भी है

पढ़ने की आदत डालें: खासकर रात को सोने से पहले। किसी शास्त्र के कम से कम दो पृष्ठ पढ़ें और उस पर ध्यान करें। स्वाध्याय ज्ञान का द्वार खोलता है। ध्यान शक्ति के संचार का माध्यम है। दैनिक अध्ययन की आदत आपको चिंता मुक्त भी रखेगी और आपको अच्छी नींद भी देगी, साथ ही ज्ञान प्राप्त करने की इच्छा को भी मजबूत करेगी।

माता-पिता का आशीर्वाद प्राप्त करें: घर से निकलने से पहले रोज सुबह स्नान करके माता-पिता के चरण स्पर्श करें। गणपति माता-पिता को संपूर्ण ब्रह्मांड मानते हैं। जो लोग अपने माता-पिता का सम्मान नहीं करते हैं, उनकी किसी भी पूजा से गणेश प्रसन्न नहीं होते हैं। यह आदत परिवार में अच्छे नैतिक मूल्यों का पोषण करेगी और आपके परिवार में प्यार और सम्मान की भावना भी बढ़ाएगी।

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *